Mrityu: Vishwa Sahitya kee ek Yatra
मृत्यु : विश्व साहित्य की एक यात्रा

200.00360.00

10 in stock

(1 customer review)

Author(s) — Vijay Sharma
लेखिका — विजय शर्मा

| ANUUGYA BOOKS | HINDI| 192 Pages | 2021 |

Description

…लेखक के बारे में…

डॉ. विजय शर्मा, पीएच. डी l समालोचक, सिनेमा विशेषज्ञ, विश्व साहित्य अध्येता l पूर्व एसोशिएट प्रोफ़ेसर l विजिटिंग प्रोफ़ेसर हैदराबाद सेंट्रल यूनिवर्सिटी तथा रॉची एकेडमिक स्टाफ़ कॉलेज l देश के विविध स्थानों पर अनेक सेमीनार एवं कार्यशाला आयोजित l सेमीनार में शोध-पत्र प्रस्तुति l कई हिन्दी और इंग्लिश पत्रिकाओं में सह-संपादन l अतिथि संपादन ‘कथादेश’ दो अंक l ‘हिंदी साहित्य ज्ञानकोश’ में सहयोग l प्रमुख पत्र-पत्रिकाओं में कहानी, आलेख, पुस्तक-समीक्षा, फ़िल्म-समीक्षा, अनुवाद प्रकाशित l आकाशवाणी से पुस्तक-फ़िल्म समीक्षा, कहानियाँ, रूपक तथा वार्ता प्रसारित l प्रकाशित पुस्तकें : अपनी धरती, अपना आकाश : नोबेल के मंच से (द्वितीय संस्करण); वॉल्ट डिज़्नी : ऐनीमेशन का बादशाह; अफ़्रो-अमेरिकन साहित्य : स्त्री स्वर; स्त्री, साहित्य और नोबेल पुरस्कार (द्वितीय संस्करण); विश्व सिनेमा : कुछ अनमोल रत्न; सात समुंदर पार से… (प्रवासी साहित्य विश्लेषण); देवदार के तुंग शिखर से; हिंसा, तमस एवं अन्य साहित्यिक आलेख; क्षितिज के उस पार से; स्त्री, साहित्य और विश्व सिनेमा; बलात्कार, समलैंगिकता एवं अन्य साहित्यिक आलेख; सिनेमा और साहित्य : नाज़ी यातना शिविरों की त्रासद गाथा; तीसमार खाँ (कहानी संग्रह); विश्व सिनेमा में स्त्री (संपादन); नोबेल पुरस्कार: एशियाई संदर्भ; ऋतुपर्ण घोष : पोर्ट्रेट ऑफ़ ए डॉयरेक्टर (ई-बुक); ऑर्सन वेल्स : निर्देशन की जिद, काँटों का ताज (ई-बुक); वर्जित संबंध: नोबेल साहित्य में; महान बैले नृत्यांगनाएँ; कथा मंजूषा; विश्व की श्रेष्ठ 25 कहानियाँ (अनुवाद); लौह शिकारी (अनुवाद) l दो पाण्डुलिपि प्रकाशनाधीन l सम्पर्क : प्रार्थना, 326 न्यू लेआउट, सीतारामडेरा,
एग्रिको, जमशेदपुर-831009 l फोन : 8789001919 l ई-मेल : vijshain@ gmail.com

…पुस्तक के बारे में…

मैं मौत हूँ, जैसाकि तुम साफ़ तौर पर देख सकते हो, लेकिन तुम्हें डरने की जरूरत नहीं है। मैं मात्र तस्वीर हूँ। जो भी हो, मैं तुम्हारी आँखों में दहशत पढ़ती हूँ। जबकि तुम्हें बहुत अच्छी तरह से मालूम है मैं असली नहीं हूँ – जैसे बच्चे खुद को खेल में खो देते हैं – तुम अभी भी दहशत से जकड़े हुए हो, मानो तुम असल में खुद मौत से मिले हो। यह मुझे खुशी देता है। जब अपरिहार्य पल तुम्हारे सामने आता है, तुम मुझे देखते हो, तुम्हें लगता है कि डर से तुम्हारी पोंक निकल गई है। यह मजाक नहीं है। जब मौत का सामना होता है, लोगों का अपनी जिस्मानी हरकत पर से अख्तियार खतम हो जाता है – खासकर ज्यादातर उन लोगों का जो बहादुर माने जाते हैं। इसी कारण, हजारों बार जिसकी तुम तस्वीर बनाते हो, लाशों से पटे जंग के मैदान खून, बारूद और गर्म हथियारों से नहीं मल तथा सड़े हुए माँस से बदबू मारते हैं। मुझे मालूम है तुमने पहली बार मृत्यु का चित्रण देखा है।…“यह मैं हूँ, एज़रियल, मृत्युदूत,” उसने कहा। ‘‘मैं इस दुनिया में आदमी की यात्रा का अंत करता हूँ। मैं हूँ जो बच्चों को उनकी माताओं से, पत्नियों को उनके पतियों से, प्रेमियों को एक-दूसरे से और पिताओं को उनकी बेटियों से अलग करता हूँ। इस दुनिया में कोई भी नश्वर मुझसे मिलने से बच नहीं सकता है।”

– ‘माई नेम इज रेड’

ये पाँचों उपन्यास – ‘द पर्ल’, ‘क्रोनिकल ऑफ़ ए डेथ फ़ोरटोल्ड’, ‘बिलवड’, ‘ए पर्सनल मैटर’ तथा ‘माई नेम इज रेड’ – मृत्यु के इर्द-गिर्द घूमते हैं। हत्या इनकी केंद्रीय थीम है। कभी सुनियोजित हत्या हुई है, कभी संयोग से हत्या हो जाती है। कभी मौके की नजाकत को देखते हुए तक्क्षण निर्णय हत्या में फ़लित होता है और कभी हत्या का पूरा सारसंजाम किया जाता है। एक उपन्यास में बच्चा अपंग है और पिता प्राणपण से चाहता है कि बच्चा जीवित न रहे। ‘बिलवड’ एक जटिल उपन्यास है जिसमें रचनाकार ने ममता की पराकाष्ठा में माँ को अपने बच्चे की जान लेते हुए दिखाया है। ‘क्रोनिकल ऑफ़ ए डेथ फ़ोरटोल्ड’ में एक हत्या होती है लेकिन हत्यारे दो हैं, या यूँ कहें सारा कस्बा, सारा समाज हत्यारा है। ‘माई नेम इज रेड’ उपन्यास में एक से अधिक हत्या होती है मगर यहाँ हत्या बच्चों की नहीं हो रही है, मरने वाले और मारने वाले सब वयस्क हैं तथा सब पुरुष हैं। लोककथा पर आधारित ‘द पर्ल’ में बच्चा कोयोटीटो विष दंश से बच जाता है मगर बाद में गोली का शिकार होकर मरता है।
‘ए पर्सनल मैटर’ के नायक बर्ड में आत्म-धिक्कार का भाव प्रबल है, ‘द पर्ल’ के लोगों में गर्वीली गरीबी है। ‘बिलवड’ के पात्र आत्म-गौरव से भरे हुए हैं। ‘क्रोनिकल ऑफ़ ए डेथ फ़ोरटोल्ड’ के कई पात्र अपनी अमीरी तथा सत्ता की शान में हैं। ‘माई नेम इज रेड’ के पात्र चित्रकार के रूप में अद्वितीय हैं। ‘द पर्ल’ और ‘बिलवड’ के पात्र मनुष्य के रूप में अप्रतिम हैं।

…इसी पुस्तक से…

अनुक्रम

  • अपनी बात
  • पर्ल : सहमति-असहमति
  • हत्या की मुनादी तथा समाज का दायित्व
  • बिलवड : एक हॉिटंग कहानी
  • पिता और पुत्र
  • लाल है नाम मेरा
  • परिशिष्ट-1
  • परिशिष्ट-2

Additional information

Dimensions N/A
Binding Type

,

1 review for Mrityu: Vishwa Sahitya kee ek Yatra
मृत्यु : विश्व साहित्य की एक यात्रा

  1. Sanora

    Users rated the Battle and Fuck-Prank my Current Favorites!
    Schnuggie91 videos as very hot with a 94.35% rating, siyah emma hix sarışın bebeğim türkçe porno konulu film video
    uploaded to main category: Teen 18+. You can watch more
    videos like “Battle and Fuck-Prank my Current Favorites! Schnuggie91 3 min play Blonde” below
    in the related videos section or try navigation by
    tags.

Add a review

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This website uses cookies. Ok