Mandar Par Thaap (Aadivasi Jeewan ki Kahaniyan)  माँदर पर थाप (आदिवासी जीवन की कहानियाँ)
Mandar Par Thaap (Aadivasi Jeewan ki Kahaniyan) माँदर पर थाप (आदिवासी जीवन की कहानियाँ)
₹200.00 - ₹300.00

Mandar Par Thaap (Aadivasi Jeewan ki Kahaniyan) माँदर पर थाप (आदिवासी जीवन की कहानियाँ)

Mandar Par Thaap (Aadivasi Jeewan ki Kahaniyan) माँदर पर थाप (आदिवासी जीवन की कहानियाँ)

200.00300.00

Editor(s) — Ajay Mehtab
सम्पादक — अजय मेहताब

| ANUUGYA BOOKS | HINDI|

| also availabe in HARD BOUND |

Description

रमणिका गुप्ता

आदिवासी जीवन पर केन्द्रित कहानियों को एक जगह संकलित करना कोई सरल काम नहीं है। पिछले छह-सात दशकों के अनुभवों के आधार पर मैं यह बात कह रही हूँ। मैंने आदिवासी जीवन को बेहद करीब से देखा-समझा है। उनकी समस्याओं पर लगातार लिखती-बोलती रही हूँ। सैकड़ों कहानियाँ मेरी नज़रों से गुज़री हैं। लेकिन अजय महताब की सम्पादित पुस्तक ‘मांदर पर थाप’ कई मामलों में रेखांकित करने योग्य पुस्तक है। इसमें उन कहानियों को जगह दी गई है जो आदिवासी जीवन पर केन्द्रित उत्कृष्ट कहानियाँ हैं। कुछ कहानियाँ तो क्लासिक का दर्ज़ा हासिल कर चुकी हैं। पिछले कुछ दशकों में जितनी कहानियाँ लिखी गई हैं, उनमें संजीव की कहानी ‘दुनिया की सबसे हसीन औरत’, जक़ी अनवर की ‘पहला दिन’, हरिराम मीणा की ‘जंगल में आतंक!’, सी. भास्कर राव की ‘जोहार, गोपू दा’ जैसी कहानियाँ आदिवासी जीवन पर लिखी प्रतिनिधि कहानियाँ हैं।

इस कहानी संकलन का महत्व इसलिए भी बढ़ जाता है कि इसमें जक़ी अनवर, संजीव, हरिराम मीणा, सी. भास्कर राव और नर्मदेश्वर जैसे वरिष्ठ कहानीकारों की कहानियाँ हैं तो दूसरी ओर कहानी के संसार में हाल-फ़िलहाल में कदम रखने वाले अनुज लुगुन, ज्योति लकड़ा, कमलेश, मिथिलेश प्रियदर्शी और श्रद्धा थवाइत भी हैं। पंकज मित्र, राकेश कुमार सिंह, विवेक मिश्र, अख़्तर आज़ाद और शेखर मल्लिक अपनी रचनात्मक क्षमता के जरिए हिन्दी के पाठकों का न केवल ध्यान आकर्षित करने में सफल रहे हैं बल्कि कहानी के कथ्य, क्राफ़्ट और प्रभावशाली कथा-भाषा रचकर कहानीकारों की भीड़ से खुद को अलग भी किया है।

आदिवासी दुनिया को समग्रता में जानने-समझने के लिए भी यह पुस्तक खासी उपयोगी साबित होगी, ऐसा मेरा विश्वास है। पुस्तक का संपादन करने वाले अजय महताब ने एक बड़ा काम किया है। उनकी सम्पादकीय दॄष्टि की स्पष्टता ही है कि उन्होंने आदिवासी और गैर-आदिवासी रचना को अलगाया नहीं है बल्कि एक जगह लाकर खड़ा किया है. संपादक की दॄष्टि आदिवासी जीवन के विविध पक्षों को सामने लाने की रही है। अजय महताब को मैं इस संकलन के लिए दिल से बधाई देती हूँ और उम्मीद करती हूँ कि पुस्तक-संसार में इस नवीनतम पुस्तक का भरपूर स्वागत होगा।

संपादक के बारे में

अजय महताब
संप्रति – अध्यापन, सह-पत्रकारिता
लेखन – कविता, ग़ज़ल, कहानी, फिल्म लेखन एवं समीक्षा।
प्रकाशन – राष्ट्रीय स्तर की पत्र-पत्रिकाओं में कहानियाँ एवं पुस्तक समीक्षाएँ प्रकाशित, युवा कविता विशेषांकों में कई कविताएँ व ग़ज़लें प्रकाशित।
पुस्तकें – बोधी प्रकाशन, जयपुर से 25 युवा कवियों की प्रतिनिधि कविताओं के साझा संकलन ‘लिखनी ही होगी एक कविता’ में कविताएँ संकलित, ‘विश्व सिनेमा में स्त्री’ पुस्तक में फिल्म पर आलेख सम्मिलित तथा कविताओं के अन्य कई साझा संकलनों में कविताएँ शामिल।
संपर्क – प्लॉट नं. 135, टोला–बिसोईडीह, गाँव – भिलाई पहाड़ी, एन.एच. 33, जमशेदपुर – 831012
मो.– 8651788290
e-mail : ajay.jales@gmail.com

पुस्तक के अन्य लेखकों के बारे में

1. रिज़वाँ वास्ती, 399, ग्रीन वेली रोड नं.-17, ज़ाकिरनगर, जमशेदपुर–832110, मो. 9431328905 e-mail : rizwanwasti@yahoo.co.in
2. संजीव, 22C, न्यू डीडीए जनता फ्लैट, प्रथम तल, चिल्ला मयूर विहार फेस-II, दिल्ली–91
मो. 8587832148
3. हरिराम मीणा, 31, शिवशक्तिनगर, किंग्स रोड, अजमेर हाई-वे, जयपुर– 302019 मो. 9414124101 e-mail : hrbms@yahoo.co.in
4. सी. भास्कर राव, 59, बी. रोड़, एयर बेस कॉलोनी, कदमा, जमशेदपुर–831005 मो. 9431373921 e-mail : dr.bhaskarl.rao@gmail.com
5. नर्मदेश्वर, न्यू एरिया, नाला रोड (गायत्री मन्दिर के पास), सासाराम– 821115 मो. 8757075977
6. पंकज मित्र, 102, हरिओम शान्ति अपार्टमेन्ट, साकेत विहर, हरमू, राँची– 834002 मो.– 9470956032
7. राकेश कुमार सिंह, कंचन प्रभा, जय प्रकाश नगर, कतीरा, आरा– 802301 मो.– 9431852844
8. अ़ख्तर आज़ाद, मकान नं.–38, रोड नं. 1, आज़ाद नगर, मानगो जमशेदपुर, झारखण्ड– 8312110 मो. 9234866680
9. विवेक मित्र, 123-C, पोकेट-सी, मयूर विहार फेस–II, दिल्ली–91, मो. 9810853128
e-mail : vivek-space@yahoo.com
10. अनुज लुगुन, भारतीय भाषा केन्द्र, स्कूल ऑफ सोशल साइंस बिल्डिंग, दक्षिण बिहार केन्द्रीय विश्वविद्यालय, एस.एच. 7, पंचानपुर रोड, गया, बिहार– 824236 मो. 7677570764 e-mail : anujlugun@cub.ac.in
11. शेखर मल्लिक, कम्प्यूटर विभाग, बी.डी.एस.एल. महिला महाविद्यालय, घाटशिला–832303 मो. 9852715924 e-mail : shekharmallick@yahoo.com
12. कमलेश, फ्लैट नं. 301, निरंजन अपार्टमेन्ट, आकाशवाणी मार्ग, खाजपुरा बेली रोड, पटना–800014 मो. 9934994603
13. मिथिलेश प्रियदर्शी, कावेरी–203, जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय, नई दिल्ली– 110067 मो.– 9013673144
14. श्रद्धा थवाइत, एफ. 5, पंकज मित्रम् अपार्टमेंट, शैलेन्द्र नगर, रायपुर–492001 मो. 9424202798 e-mail : shraddhathawait@gmail.com
15. ज्योति लकड़ा, द्वारा जवाहर मसीह, शास्त्रीनगर, काँके रोड, राँची-834008, झारखंड मो. 08986654561

पुस्तक में शामिल कहानियाँ एवं उनके लेखक

कुछ बातें
1. पहला दिन – ज़की अनवर
2. दुनिया की सबसे हसीन औरत – संजीव
3. जंगल में आतंक! – हरिराम मीणा
4. जोहार, गोपू दा! – सी. भास्कर राव
5. धूप – नर्मदेश्वर
6. सेन्दरा – पंकज मित्र
7. अगिनपाखी – राकेश कुमार सिंह
8. हम कहाँ जाएँ बाबूलाल – अ़ख्तर आज़ाद
9. काली पहाड़ी – विवेक मिश्र
10. हाज़िरी – अनुज लुगुन
11. डायनमारी – शेखर मल्लिक
12. पत्थलगड़ी – कमलेश
13. ऐन एँदेर हूँ मा नंजक़न – मिथिलेश प्रियदर्शी
14. पगडंडी – श्रद्धा थवाइत
15. कोराइन डूबा – ज्योति लकड़ा

Additional information

Weight N/A
Dimensions N/A
Binding Type

,

Translate »
This website uses cookies. Ok