Aadivasi Vidroh : Vidroh Parampara aur Sahityik Abhivyakti ki Samasyaen  आदिवासी विद्रोह : विद्रोह परम्परा और साहित्यिक अभिव्यक्ति की समस्याएँ (विशेष संदर्भ — संथाल ‘हूल’ और हिन्दी उपन्यास)
Aadivasi Vidroh : Vidroh Parampara aur Sahityik Abhivyakti ki Samasyaen आदिवासी विद्रोह : विद्रोह परम्परा और साहित्यिक अभिव्यक्ति की समस्याएँ (विशेष संदर्भ — संथाल ‘हूल’ और हिन्दी उपन्यास)
₹400.00   ₹340.00

Aadivasi Vidroh : Vidroh Parampara aur Sahityik Abhivyakti ki Samasyaen आदिवासी विद्रोह : विद्रोह परम्परा और साहित्यिक अभिव्यक्ति की समस्याएँ (विशेष संदर्भ — संथाल ‘हूल’ और हिन्दी उपन्यास)

/, Art and Culture / कला एवं संस्कृति, Criticism / आलोचना, Literary Discourse / साहित्य विमर्श, Paper Back / पेपर बाईंड, Student Editions / छात्र संस्करण, Tribal Literature / आदिवासी विमर्श/Aadivasi Vidroh : Vidroh Parampara aur Sahityik Abhivyakti ki Samasyaen आदिवासी विद्रोह : विद्रोह परम्परा और साहित्यिक अभिव्यक्ति की समस्याएँ (विशेष संदर्भ — संथाल ‘हूल’ और हिन्दी उपन्यास)

Aadivasi Vidroh : Vidroh Parampara aur Sahityik Abhivyakti ki Samasyaen आदिवासी विद्रोह : विद्रोह परम्परा और साहित्यिक अभिव्यक्ति की समस्याएँ (विशेष संदर्भ — संथाल ‘हूल’ और हिन्दी उपन्यास)

340.00

8 in stock

Author(s) — Kedar Prasad Meena
लेखक — केदार प्रसाद मीणा

| ANUUGYA BOOKS | HINDI| 440 Pages | PAPER BOUND | 2015 |
| 5.5 x 8.5 Inches | 450 grams | ISBN : 978-93-83962-14-3 |

8 in stock

Translate »
This website uses cookies. Ok